खण्डन-खण्ड-खाद्य ग्रंथ- श्रीहर्ष

खण्डन-खण्ड-खाद्य ग्रंथ- श्रीहर्ष
श्रीहर्ष 12वीं सदी के संस्कृत के प्रसिद्ध कवि। वे बनारस एवं कन्नौज के गहड़वाल शासकों - विजयचन्द्र एवं जयचन्द्र की राजसभा को सुशोभित करते थे। 

उन्होंने कई ग्रन्थों की रचना की, नैयायिकों की तर्कमूलक पद्धति से न्याय के सिद्धांतों का खंडन करनेवाला श्रीहर्ष का 'खण्डनखण्डखाद्य' नामक ग्रंथ अद्वैत वेदान्त की अति प्रकृष्ठ और प्रौढ़ रचना मानी जाती है, 

इसके अतिरिक्त 'स्थैर्यविचारप्रकरण' और 'शिवशक्तिसिद्धि' नामक दो दार्शनिक ग्रंथों का श्रीहर्ष ने निर्माण किया था।

डाउनलोड करा “ खण्डन-खण्ड-खाद्य ग्रंथ,”
पीडीएफ वर्जन मध्ये |

Free Download "Khandana Khanda Khadya Granth " In PDF Format!

इसे डाउनलोड करणे के लिये नीचे दिये गये बटन पर क्लीक करे

Click Here To Download In Hindi

Click Here To Download In English

कमेंट करके हमे जरूर बताये आपको हमारा प्रयास कैसा लगा,
आपको अगर किसी PDF पुस्तक की जरुरत हो, कमेंट के माध्यम से हमे बताये


हमारी वेबसाइट के बारे मे अपने दोस्तो को जरूर बताये !
Newest

2 comments

Click here for comments
Ganesh
admin
31 October 2018 at 09:43 ×

Sir, please update English version link.

Reply
avatar
Mitali
admin
31 October 2018 at 09:50 ×

श्रीहर्ष, भारवि की परम्परा के कवि थे। उन्होंने अपनी रचना विद्वज्जनों के लिए की,
न कि सामान्य मनुष्यों के लिए।

इस बात की उन्हें तनिक भी चिन्ता नहीं थी कि सामान्य जन उनकी रचना का अनादर करेंगे।

वह स्वयं स्वीकार करते हैं कि उन्होंने अपने काव्य में कई स्थानों पर गूढ़ तत्त्वों का समावेश कर दिया था,
जिसे केवल पण्डितजन ही समझ सकते हैं।

अत: पण्डितों की दृष्टि में तो उनका काव्य माघ तथा भारवि से भी बढ़कर है|

Reply
avatar